Nisha Sundriyal

Nisha Sundriyal | आज़ाद पंछी | Adhuri Hasrate

नफरत नहीं है किसी से,
बस अब कोई भाता ही नहीं !!

Nafrat Nahi Hai Kisi Se,
Bas Ab Koi Bhata Hi Nahi !!


मुझसे खफ़ा-खफ़ा सा रहता है,
वह तेरा ‘वक्त’ जो मेरा कभी हुआ ही नहीं !!

Mujhse Khafa-Khafa Sa Rahte Hai,
Vah Tera Waqt Jo Mera Kabhi Nahi Hua !!


कभी-कभी टूट कर भी मुस्कुराना होता है,
अक्सर सपनो को छोड़ जाना होता है,
“देखा जायेगा” यह कह कर एक दिन मर जाना होता है,
दुनिया को छोड़ कर चले जाना होता है !!

Kabhi Kabhi Toot Kar Bhi Muskurana Hota Hai,
Aksar Sapno Ko Chhod Jana Hota Hai,
Dekha Jayega Yah Kah Kar Ek Din Mar Jana Hota Hai,
Duniya Ko Chhod Kar Chale Chana Hota Hai !!


ज़िंदगी के किसी मोड़ पर तुम ज़रा मुड़ कर देखना,
मैं तुम्हे, तुम्हारे हर ज़रुरत के रास्तों पर मिलूंगा !!

Zindagi Ke Kisi Mod Par Tum Zra Mud Kar Dekhna,
Mai Tumhe, Tumhare Har Zarurat Ke Rasto Par Milunga !!


कमी हमारी चाहत में नहीं थी,
कमी तो हमारी दवाओं में रह गई शायद !!

Kami Humari Chahat Me Nahi Thi,
Kami To Humari Dawao Me Rah Gayi Shayad !!


शिक्षा एक ऐसी पूँजी है,
जो समाज को मजबुत बनने का कार्य करती है !!

Sikha Ek Aisi Punji Hai,
jo Samaj Ko Majbut Banne Ka Karya Karti Hai !!


गलत रास्तों पर चलना बहुत आसन होता है,
लेकिन सही रास्तों पर सिर्फ वही कदम रखता है
जिसे अपने हर कदम पर विश्वास रहता है !!

Galat Rasto Par Chalna Bahut Aasan Hota Hai,
Lekin Sahi Rasto  Par Sirf Wahi Kadam Rakhta Hai
Jise Apne Har Kadam Par Viswas Rahta Hai !!


जब ज़िंदगी में परिस्तिथियांँ आपके अनुकूल ना हो,
तो आपको परिस्तिथियों के अनुरुप होना पड़ता है!!

Jab ZIndagi Me Paristithiya Apke Anukul Na Ho,
To Apko Paristithiyo Ke Anuroop Hona Padta Hai !!


हर इन्सान को तारिफ की नहीं,
बल्कि इज़्ज़त की ज़रुरत होती है !!


Har Insaan Ko Taarif Ki Nahi
Balki Izzat Ki Zarurat Hoti Hai !!


यदि जीते जी ना समझ पाया मुझे कोई,
तो मेरे मरने के बाद क्या खाक कोई समझ पायेगा !!

Yahi Jeete Ji Na Samajh Paya Mujhe Koi,
To Mere Marne Ke Baad Kya Khaak Koi Samjh Payega !!


हम आम लोग कहा किसी के
लिए खास होते हैं !!


Hum Aam Log Kaha Kisi Ke
Liye Khaas Hote Hai !!


ना उम्मिद है कोई,
ना इन्तज़ार है
ना प्यार है किसी से,
ना ही किसी से टकरार है!!


Na Umeed Hai Koi,
Na Intezaar Hai
Na Pyar Hai Kisi Se,
Na Hi Kisi Se Takrar Hai,


काश होता मुझे भी झूठ बोलने का हुनर,
तो रिश्ते मेरे भी सब से गहरे होते !!


Kaash Hota Mujhe Bhi Jhooth Bolne Ka Hunar,
To Rishte Mere Bhi Sab Se Gahre Hote !!


आज मुफ्त में मिल रही है तुम्हे हमारी सलाह,
ज़िंदगी में जिस दिन तुम्हारे काम आयेगी ये,
तो शायद तब हम ना रहे तुम्हारे पास !!


मतलबी है दुनिया, ये जानती हुँ मैं,
तभी तो मैने खामोशी को अपनी ढाल बनाया !!


Matlabi Hai Duniya, ye Janti Hoon Mai,
Tabhi to Maine Khamoshi Apni Dhaal Bnaya !!


मुझे ना तोला कर सब मे,
मैं खुद उस खुदा के साँचे की एक मूरत हूँ !!


Mujhe Na Tola Kar Sab Me
Main Khud Us Khuda Ke Sanche Ki Ek Murat Hoon


जो माँ-बाप के लिए वफादार नहीं हुए,
उनसे कभी अपनी वफा की उम्मिद मत रखना !!


Jo Maa-Baap Ke Liye Wafadaar Nahi Huye,
Unse Kabhi Apni Wafa Ki Umeed Mat Rakhna !!


जिम्मेदार लडकियों के ना Ex होते हैं,
ना हीं उनके Crush होते हैं,
बस उनके एक हमसफर होते हैं !!


Zimmedari Ladkiyo Ke Na Ex Hote Hai,
Na Hi Unke Crush Hote Hai,
Bas Unke Ek Humsafar Hote Hai !!


Open Minded और Characterless
इन दोनो के बीच बस थोड़ा सा ही पर्दा होता है,
तय आपको करना है कि
आप किस तरह रहना चाहते हैं !!


Open Minded Aur Characterless
In Dono Ke Beech Bas Thoda Sa Hi Parda Hota Hai,
Tay Apko Karna Hai Ki
Aap Kis Tarah Rahna Chahte Hai !!


जो आपकी खामोशी
नहीं समझ सकता,
तो फिर वो आपकी शब्दों का
कुछ भी मतलब निकाल सकता है !!


Jo Apki Khamoshi
Nahi Samjh Sakta,
To Fir Wo Apki Shabdo Ka
Kuch Bhi Matlab Nikal Sakta Hai !!


कभी सोचा ना था की एक छोटे से दायरे में
सिमटकर रह जाएगी जिन्दगीं…!!


Kabhi Socha Na Tha Ki Ek Chhote Se Dayre Me
Simatkar rah Jayegi Zindag…!!


कभी-कभी इतना बेबस हो जाता है इंसान,
कहने को बहुत कुछ होता है दिल में,
लेकिन कुछ कह नहीं पाता,
और इस तरह अपनों से ही बेगाना हो जाता है इंसान..!!


Kabhi-Kabhi Itna Bebas Ho Jata Hai Insaan,
Kahne Ko Bahut Kuch Hota Hai Dil Me,
Lekin Kuch Kah Nahi Pata,
Aur Is Tarah Apno Apno Se Hi Begana Ho Jata Hai Insaan !!


ख़फा तो नहीं हूँ मैं, बस खामोश हूँ !!

Khafa To Nahi Hoon Bas Khamosh Hoon !!


मेरी एक छोटी सी ख्वाहिश बोझ लगी उनकों,
जिनकी ख्व़ाहिशें मैं पूरा करना चाहती थी !!


Meri Ek Choti Si Khwahish Bojh Lagi Unko,
Jinki Khwahishe Main Pura Karna Chahti Thi !!


अवसाद
अपने जिस्म को रस्सी में उतारने से बेहतर,
मैं अपनी रुह को कुछ पन्नों में उतार देती हूँ !!

Awsaad
Apne Jism o Rassi Me Utarne Se Behtar,
Mai Apni Rooh Ko Kuch Panno Me Utar Deti Hoon


टूटा हुआ हूं काँच सा,
कहीं किसी को चुभ ना जाऊ,
दर्द को अपने ही अन्दर रखकर,
सबसे दूर मैं हो जाऊ !!

Toota Hua Hoon Kanch Sa,
Kahi Kisi Ko Chubh Na Jaaun,
Dard Ko Apne Hi ANdar Rakhkar,
Sabse Dur Main Ho Na Jaun !!


जब जमीन की भीड़ में भी
अकेला हो जाता हूँ,
तब आसमां में जगमगाती तारों की
‘निशा’ में खो जाता हूँ..!

Jab Zamin Ki Bheed Me Bhi
Akela Ho Jata Hoon,
Tab Asman Me Jagmagati Taaro Ki
Nisha Me Kho Jaata Hoon


Nisha Sundriya
Co- Author
Adhuri Hasrate

My Name is Nisha Sundriyal. I love writing.
Education: MJMC
Hobbies: Writing, Photography, Adventure
Likes: Singing, Dancing

Follow her on Instagram : @nisha_sundriyal12


Read More Poetry

Leave a Comment