Shikayat Shayari

Shikayat Shayari, Shikayar Shayari for Friends

Adhuri Hasrate has a collection of zindagi se shikayat shayari, bhagwan se shikayat shayari, apno se shikayat shayari, shikayat shayari for friends, shikayat shayari for husband. Here is the list of Shikayat Shayari:

तुझसे कोई शिकायत हम करे भी तो कैसे करें,
दिल ही इजाज़त नहीं देता तेरे खिलाफ़ बोलने की !!

Tujhse Koi Shikayat Hum Kare Bhi To Kaise Kare,
Dil Hi Ijazat Nahi Deta Tere Khilaaf Bolne Ki!!


शिकायत क्या करें हम इन अंधेरी रातों से,
मेरी जिंदगी में अंधेरा तो दिन में भी रहता है !!

Shikayat Kya Kare Hum Inn Andheri Raaton Se,
Meri Zindagi Me Andhera To Din Me Bhi Rehta Hai !!


हम तो नाम भी नहीं लेते उनका किसी के सामने,
खुदा जाने उन्हें शिकायत किस बात से हैं !!

Hum To Naam Bhi Nahi Leta Unka Kisi Ke Samne,
Khuda Jane Unhe Shikayat Kis Baat Se Hai !!


टूट जाते है रिश्तें अक्सर शिकायत करने से,
छोटी छोटी बातों को दिल से न लगाया करें !!

Toot Jate Hai Rishte Aksar Shikayat Karne Se,
Chhoti Chhoti Baaton Ko Dil Se Na Lagaya Kare !!


Tod Diya Humne…

तोड़ दिया हमने सबसे रिश्ता उम्मीद का,
अब किसी से हम कोई शिकायत नही करेंगे !!

Tod Diya Humne Sabse Rishta Ummeed Ka,
Ab Kisi Se Hum Shikayat Nahi Karenge !!


शिकायत क्यों करती है तू मेरे रूठ जाने से,
मैंने तो तेरे बेवफा होने पर भी कुछ नहीं कहा !!

Shikayat Kyun Karti Hai Tu Mere Rooth Jane Se,
Maine To Tere Bewafa Hone Par Bhi Kuch Nahi Kaha !!


नहीं करते शिकायत वो जो
टूट चुके होते है,
और लोगों को लगता है की उन्हें
कोई गिला ही नहीं !!

Nahi Karte Shikayat Wo Jo
Toot Chuke Hote Hai,
Aur Logon Ko Lagta Hai Ki Unhe
Koi Gila Nahi !!


कर दोगे बंद मुझसे कोई शिकायत करना,
जिस दिन मेरे दिल मे झांककर देखोगे!!

Kar Doge Band Mujhse Koi Shikayat Karna,
Jis Din Mere Dil Me Jhaank Kar Dekhoge!!


Khud Se Shikayate…

जो दूसरों की कभी शिकायत न करे,
उन्हें खुद से शिकायतें बहुत होती है !!

Jo Dusron Ki Kabhi Shikayat Na Karein,
Unhe Khud Se Shikayaten Bahut Hoti Hai!!


shikayat on zindagi

शिकवा तो हमें अपनी ज़िंदगी से हैं,
न जाने मौत किस बात पर रूठ के बैठी है !!

Shikwa To Hume Apni Zindagi Se Hai,
Na Jane Maut Kis Baat Par Rooth Ke Baithi Hai !!


unse shikayat

बस ये सोच कर हम शिकायत नही करते उनसे,
की गर वो रूठ गए तो फिर हमारा क्या होगा !!

Bas Ye Sochkar Hum Shikayat Nahi Karte Unse,
Ki Gar Wo Rooth Gaye To Fir Humara Kya Hoga !!


उस शख़्श की चाहत मे कमी हो ही नहीं सकती,
जो दिल टूटने पर भी कभी शिकायत न करे !!

Uss Shakhs Ki Chahat Me Kami Ho Hi Nahi Sakti,
Jo Dil Tootne Par Bhi Kabhi Shikayat Na Kare !!


shikayat apno se shayari

कौन कहता है की हमें तुमसे शिकायत है,
शिकायत तो खुद से है, तुमसे बस इश्क़ है !!

Kaun Kehta Hai Ki Hume Tumse Shikayat Hai;
Shikayat To Khud Se Hai, Tumse Bas Ishq Hai !!


zindagi shikayat

शिकवा तो मुझे भी बहुत है इस ज़िंदगी से,
पर हम औरों की तरह सब से शिकायत नही करते !!

Shikwa To Mujhe Bhi Hai Iss Zindagi Se,
Par Hum Auro Ki Tarah Sab Se Shikayat Nahi Karte !!


Tujhe Dekhkar…

apno se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

कर ली खुदखुशी हर शिकायत ने तुझे देखकर,
अब मेरा दिल भी तेरी वकालत कर रहा है !!

Kar Li Khudkhushi Har Shikayat Ne Tujhe Dekhkar,
Ab Mera Dil Bhi Teri Wakaalat Kar Raha Hai !!


zindagi se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

हम शिकवा करें भी तो किससे करें,
न हम किसी के है न कोई हमारा !!

Hum Shikwa Kare Bhi To Kisse Kare,
Na Hum Kisi Ke Hai Na Koi Humara !!


zindagi se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

उन्हीं में होता है रिश्तें निभाने का दम,
जो शिकवे और शिकायतें करते है कम !!

Unhi Me Hota Hai Rishten Nibhane Ka Dum,
Jo Shikwa Aur Shikayat Karte Hai Kum !!


apno se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

न होगी कोई शिकायत बीती बातों का,
गर फिर से आप मेरे मेहरम बन जाओ !!

Na Hogi Koi Shikayat Biti Baaton Ka,
Gar Fir Se Aap Mere Meharm Ban Jao !!


bhagwan se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

शिकायत है खुदा से तेरा मुझे
यूँ छोड़ कर जाना,
फिर सोचा मर्ज़ी तुम्हारी थी
तो खुदा को क्यों बीच में लाना !!

Shikayat Hai Khuda Se Tera Mujhe
Yun Chhod Kar Jana,
Fir Socha Marzi Tumhari Thi To
Khuda Ko Kyo Bich Me Lana !!


bhagwan se shikayat shayari - Adhuri Hasrate

न कर सका खुदा से शिकायत तुम्हारी,
आखिर मैंने माँगा भी तो तुम्हे ही था अपनी दुआओं में !!

Na Kar Saka Khuda Se Sikayat Tumhari,
Aakhir Maine Manga Bhi To Tumhe Hi Tha Apni Duaon Main !!


Read More:


If you want to read more Shayari, you can read on our Instagram page @adhurihasrate

Leave a Comment